logo
आद्या शक्ति काली, सर्वप्रथम शक्ति
  • Dus Mahavidya

    दस महाविद्या स्वरूप में १० महान शक्तियों के स्रोत

    १. महाकाली २. उग्र तारा ३. श्री विद्या महा त्रिपुरसुंदरी ४. भुवनेश्वरी ५. छिन्नमस्ता ६. महा त्रिपुर भैरवी ७. धूमावती ८. बगलामुखी ९. मातंगी १०. कमला

  • Shiva and Kali

    महा काली (पार्वती अथवा सती), शिव अर्धांगिनी

    तमो गुनी, विध्वंस से सम्बंधित, भयंकर स्वरूप वाली।

  • Brahma and Saraswati

    महा सरस्वती, ब्रह्मा अर्धांगिनी

    रजो गुणी, ज्ञान और सृष्टि से सम्बंधित, सौम्य स्वरूप वाली

  • Adhya Shakti

    आद्या शक्ति, संपूर्ण ब्रह्मांड को जन्म देने वाली

    अंधकार से जन्मा होने के कारण 'काली' तथा आदि, प्रथम शक्ति स्वरूपा होने हेतु 'आद्या'

  • Vishnu and lakshmi

    महा लक्ष्मी, विष्णु अर्धांगिनी

    सत्व गुणी, पवित्रता तथा पालन से सम्बंधित, सुन्दर तथा कोमल रूप वाली

विराचारी तांत्रिक बामाचरण चट्टोपाध्याय! तारा-पीठ भैरव।

बामा खेपा या बामाचरण चट्टोपाध्याय

बामा खेपा

बामा खेपा या बामा-चरण चट्टोपाध्याय, संक्षिप्त जीवन परिचय

'बामा-चरण चट्टोपाध्याय', माँ तारा के पुत्र रूप में ख्याति प्राप्त 'बामा खेपा' नाम से प्रसिद्ध।


जन्म : ५ मार्च १८३७; बंगला सन १२८८, १२ फाल्गुन की रात्रि में इनका जन्म शिव रात्रि या शिव चतुर्दशी की रात्रि, भारत के पश्चिम बंगाल राज्य के बीरभूम जिला, रामपुरहाट ब्लाक के आटला गांव में एक बहुत ही गरीब बंगाली ब्राह्मण परिवार में हुआ।


मृत्यु या महा समाधि : २२ जून १९११, आषाढ़ कृष्ण अष्टमी, बंगला सन १३१८, २ श्रवण, तारापीठ महा-श्मशान में विद्यमान पञ्च मुंडी आसन में योग क्रिया द्वारा बाबा ने पंचतत्व स्वरूपी देह त्याग कर, सूक्ष्म देह धारण किया।


पिता : सर्वानंद चट्टोपाध्याय, श्यामा संगीत के गायक, एक दरिद्र ब्राह्मण।


जन्म-दात्री माता : भुवनेश्वरी देवी। बामा बचपन से ही देवी तारा को अपनी बड़ी माँ मानते थे और जन्मदात्री माता को छोटी माँ।


भाई-बहन : प्रथम बड़ी बहन जय काली जो बाल्य काल में विधवा हुई, अंततः सिद्ध संन्यासिन बनी तथा तारापीठ तथा अन्य तीर्थों में साधन करती थी, २५ वर्ष की आयु में देहत्याग। तदनंतर, बामा-चरण, दुर्गा, द्रवमयी, सुंदरी तथा एक भाई रामचरण।

बालक के बामा-चरण नामकरण का विशेष कारण।

शिव चतुर्दशी की रात्रि के चारों प्रहर! शिव जी के अलग-अलग नामों से जाने जाते हैं, जो क्रमशः गंगानाथ, अधराय, बामदेव तथा सद्योजात हैं; बालक का जन्म रात्रि के तीसरे प्रहार में हुआ, जो शिव जी के बामदेव नाम का प्रतीक हैं। पुत्र प्राप्ति हेतु भुवनेश्वरी देवी ने माँ तारा के मंदिर में धरना दिया था, कारणवश वह गर्भवती हुई; तारा माँ के अनेक नाम हैं जैसे नीला, बामा, उग्रा, एक-जटा, नील-सरस्वती इत्यादि। सर्वानन्द मानते थे कि माँ तारा के कृपा से ही उन्हें पुत्र की प्राप्ति हुई हैं, इसी कारण उन्होंने अपने पुत्र का नाम 'बामा-चरण' रखा।

बामा-चरण के बचपन की एक महत्त्वपूर्ण घटना, जिसमें वे तारापीठ मंदिर में अचेत हो गिर पड़े थे।

बामा खेपा या बामा-चरण चटोपाध्याय, एक ऐसा नाम जिसे बंगाल में सभी जानते हैं; १९३७ शिवरात्रि की रात्रि में तारापीठ या चंडीपुर गाँव से ३ कि. मी. दूर, आटला ग्राम के एक ब्राह्मण कुल में इनका जन्म हुआ। सभी आटला ग्राम-वासी बहुत दरिद्रता में जीवन यापन करते थे; पिता सर्वानन्द चटोपाध्याय श्यामा संगीत (शक्ति गीत) गायक थे, वे बेहाला या बेला बजाते तथा सामान्य पुरोहित थे। थोड़ी सी खेती, यजमानों द्वारा दिया हुआ दान और संगीत उत्सवों में मिले हुए चढ़ावे से किसी तरह, सर्वानन्द के परिवार का भरण पोषण हो जाता था।
बामा, बचपन से ही माँ तारा या काली माँ को ही सब कुछ मानते थे, वे स्वयं देवी प्रतिमा बनाते, श्रृंगार करते और उनकी पूजा करते थे; वे अपनी जन्म-दात्री माँ को छोटी माँ और तारा माँ को बड़ी माँ कहकर संबोधित करते थे। बचपन से देवी भुवनेश्वरी उनके भविष्य के बारे सोच कर बहुत चिंतित रहती थीं, बामा का मन सांसारिक कार्यों में तनिक भी नहीं लगता था, वे सर्वदा ही अपने पूजा-पाठ में सर्वदा व्यस्त रहते थे। एक बार वे अपने पिता के साथ शक्ति गीत गाने हेतु तारापीठ मंदिर में गए, वहां वे गीत गाते हुए अचेत हो गए। मंदिर में उपस्थित सभी यजमान इस पर बहुत चिंतित हुऐ, उनकी माता भुवनेश्वरी देवी ने तारा माँ विग्रह के सामने अचेत पड़े बामा को रखा और अपने पुत्र बामा को उन्हें सौंपते हुए, उनका सारा दाईत्व उन्हें दे दिया। जिसके बाद बामा की चेतना वापस आ गयी, यह बामा के जीवन से सम्बंधित बहुत महत्त्वपूर्ण घटना साबित हुई।

बामा की माँ भुवनेश्वरी देवी द्वारा उन्हें सन्यास दीक्षा की आज्ञा।

जैसे-जैसे बामा यौवनावस्था में आते गए, उनका मन सांसारिक कार्यों से दूर जाता रहा और केवल माँ तारा के आस-पास आ कर सिमट गया। इसी बीच उनके पिता की मृत्यु हो गयी, पिता के मृत्यु पश्चात परिवार का भरण पोषण कठिनता से होने लगा, उनकी माँ ने उन्हें समझाया कि! वे कोई काम करें जिससे परिवार का भरण पोषण हो सकें। पर उनका मन माँ तारा के अलावा और कही नहीं लगता था। तारापीठ के महा-श्मशान में ही अधिकतर रहना बामा को अधिक प्रिया था, उनका मन घर-संसार में तनिक भी नहीं लगता था। पारिवारिक आर्थिक दशा को सुधारने हेतु, विवश हो उन्होंने मुलती के काली मंदिर में नौकरी भी की, परन्तु कुछ दिनों में वहाँ से नौकरी छोड़कर वापस आ गए। माँ तारा नहीं चाहती थी की बामा उनसे दूर रहे, उन्होंने सभी को नौकरी छोड़ने का यह तर्क दिया। इसके बाद वे अधिकतर महा-श्मशान में ही रहने लगे, मंदिर के प्रधान पुरोहित मोक्षदानन्द यह समझ गए थे, कि! यह कोई साधारण व्यक्ति नहीं है। उन्होंने बामा को तारापीठ मंदिर मंदिर में एक नौकरी दिला दी, पर उनका मन वहाँ की नौकरी में भी नहीं लगा, वे केवल माँ तारा को ढूंढ़ते थे, माँ को प्रत्यक्ष दर्शन प्राप्त चाहते थे; परिणामस्वरूप तारापीठ मंदिर की नौकरी भी जाती रही। अब बामा, देवी तारा! माँ के दर्शनों हेतु पागलों की तरह इधर उधर भटकने लगे, तब से उन्हें पागल कहा जाने लगा (बंगाली में पागल को 'खेपा' कहते है); परन्तु वास्तव में बामा, माँ के दर्शनों हेतु पागल या खेपा हुए थे।
अचानक एक दिन महा-श्मशान में एक सिद्ध योगी का अवतरण हुआ, जिनका नाम कैलाशपति था। एक दिन बामा श्मशान में द्वारका नदी के किनारे बैठे हुए थे, उन्होंने देखा की नदी के बहते हुए पानी के ऊपर से चल कर कोई संन्यासी आ रहें हैं, यह उन्हें बहुत अचंभित करने वाली तथा अलौकिक लगी और तब से वे उन योगी संन्यासी के पीछे लग गए। बामा, कैलाशपति के साथ महा-श्मशान में रहने लगे, उनकी सेवा जतन करने लगे और माँ के साक्षात् दर्शन दिलाने हेतु उनसे बार-बार प्रार्थना करने लगे। एक दिन योगी कैलाशपति के आदेशानुसार, दीक्षा विधि के पालन हेतु वे अपनी छोटी माँ से सन्यास दीक्षा की आज्ञा लेने हेतु अपने गाँव आटला गए, पर उनकी माता ने उन्हें सन्यास लेने की अनुमति नहीं दी। अपनी माता से द्वेष कर बामा, योगी कैलाशपति के पास तारापीठ महा-श्मशान चेले आये, पीछे से उनकी माता भी दौड़ती हुई वहां आ गयी। योगी कैलाशपति ने बामा की माता से पूछा! "एक बार बचपन में जब बामा गीत गाते हुए तारापीठ मंदिर में अचेत होकर गिर गए थे, तब उन्होंने बामा को किस के हाथों में सौंपा था?" सोच विचार कर भुवनेश्वरी देवी ने तदनंतर बामा को सन्यास लेने की आज्ञा दे दी।

बामा की सन्यास दीक्षा तथा काशी गमन।

यहाँ से शुरू हुई एक महान योगी, संन्यासी, समाज-सेवी की चमत्कारिक गाथा; बामा को उनके गुरु योगी कैलाशपति द्वारा वेद-शास्त्रों का ज्ञान प्राप्त हुआ, साथ ही वह साधना क्रम जिस पर चल कर एक योगी, सिद्धि लाभ कर अपने इष्ट के दर्शन लाभ कर पाता हैं। बामा, पञ्च मुंडी आसान में समाधि लगाकर माँ तारा की साधना करने लगे तथा अंततः उनके साक्षात् दर्शन प्राप्त किये। माँ ने जीवित कुंड की समस्त अलौकिक शक्तियां बामा को प्रदान की तथा उन्हें आदेश दिया कि! वे जन कल्याण हेतु उन शक्तिओं का उपयोग करे।


इसके बाद माँ-बेटे (तारा माँ और बामा खेपा) की लीला शुरू हुई। समस्या-विपद ग्रस्त लोग उनके पास आने लगे और अपनी-अपनी समस्याओं का समाधान पाने लगे, उनकी कीर्ति दूर-दूर तक फैलने लगी। उन्होंने समाज में व्याप्त नाना प्रकार की कु-रीतिओं, कुप्रथाओं को मिटने में भी अहम भूमिका प्रदान की। उनकी कीर्ति से मंदिर के कुछ पुरोहित उनसे द्वेष करने लगे तथा बामा के बारे में गलत भ्रान्ति फैलाने लगे। इसी बीच मंदिर के प्रधान पुजारी मोक्षदानन्द ने काशी यात्रा करने का निश्चय किया तथा वे बामा के साथ काशी यात्रा हेतु निकले। परन्तु, माँ तारा नहीं चाहती थी की बामा काशी जाये, बामा जब यात्रा की अनुमति लेने हेतु माँ के पास गए उन्होंने उन्हें काशी जाने की अनुमति देने से मना कर दिया था, परन्तु वे हठ कर काशी चेले गए। जिस पर माँ ने उन्हें सावधान किया! वहाँ उन्हें भूखा रहना पड़ेगा। माँ के कहे अनुसार उन्हें काशी में एक दिन भी भोजन नहीं मिला, मोक्षदानन्द भी वहाँ से अन्य तीर्थों के दर्शन हेतु निकल पड़े, बामा ने काशी से वापस तारापीठ आने में ही अपनी भलाई समझी और वहाँ से अकेले निकल पड़े। चलते-चलते पथ पर वे बहुत थक गए और एक पेड़ के नीचे विश्राम करते हुए सोचने लगे कि! मैंने अगर बड़ी माँ की बात मान ली होती और काशी नहीं आया होता तो मुझे यह दिन न देखना पड़ता। वे विलाप ही कर रहे थे की थोड़े समय पश्चात एक बालिका उनके सामने आई और उनका परिचय एवं किस हेतु वे वहाँ इस प्रकार बैठे है! पूछने लगी; बामा ने बताया की वह माँ तारा का बेटा है और वह तारापीठ जाना चाहता है, पर तारापीठ तो बहुत दूर है। बालिका ने बामा से कहा! तारापीठ पास ही है और वे उसे तारापीठ तक ले जायेगी; बालिका से साथ हो बामा तक्षण ही तारापीठ पहुँच गए।
बामा भूख के मारे, मरे जा रेहे थे, कई दिनों से उन्होंने कुछ भी नहीं खाया था; वे सीधा दौड़ते हुए माँ तारा के पास गए और व्याकुल होकर कहने लगे कि! उन्हें बहुत भूख लगी है। माँ ने बामा से कहा! वहाँ उनके सामने जो भोग उनके निवेदन हेतु रखा गया हैं उसे खा ले, बामा ने माँ के कहे अनुसार उनके भोग हेतु रखे हुए अन्न-भोग को खाने लगे। मंदिर के पुरोहितों ने जब देखा की बामा, माँ को बिना निवेदन किये हुए भोग को उछिष्ट कर रहे हैं, तो सभी क्रोधित हो उन्हें बहुत मारा। इस पर बामा, माँ से बहुत क्रोधित हुए और प्रण कर लिया की जब तक उनकी बड़ी माँ उन्हें स्वयं नहीं खिलाती हैं वे उनके भोग-प्रसाद को नहीं खायेंगे। उन्हें चोटें भी आई, वे महा-श्मशान स्थित अपने कुटिया में जाकर रोने लगे, इतने उन्होंने देखा की उनकी जन्म-दात्री छोटी माँ उनके पास आई हैं और उनसे रोने का कारण पूछ रहीं हैं। बामा ने उन्हें बताया की उनके बड़ी माँ! माँ तारा ने उन्हें मार पड़वाई हैं, जिस पर भेष बदल कर आई हुई माँ ने कहा कि! निश्चित ही वे अवध्य हुए होंगे तथा वे उनके उन स्थानों को सहलाने लगी जहाँ-जहाँ चोट पहुंची थीं। कुछ ही क्षण में बामा के सभी चोट चमत्कारिक रूप से ठीक हो गए, इस पर उन्हें बड़ा ही आश्चर्य हुआ। उनकी वास्तविक माता को ज्ञात हुआ की बामा को मंदिर के पुरोहितों ने बहुत मारा है, वे दौड़ते हुए उनके पास आई तथा उन्हें यह जानकर बड़ा ही आश्चर्य हुआ की उनसे पहले ही वे उनके पास आ चुकीं थीं। वे समझ गई की अवश्य ही माँ तारा भेष बदलकर बामा के पास आई थी।
तदनंतर बामा ने तीन दिन तक कुछ नहीं खाया, माँ तारा ने नाटोर स्टेट की महारानी भवानी देवी को सपना दिया कि! वह अपने पुत्र बामा के साथ ३ दिन से उपवास कर रही हैं, उनके पागल पुत्र बामा को मंदिर के पुरोहितों ने भोग उच्छिष्ट करने के कारण बहुत मारा हैं, जिस कारण से बामा ने ३ दिन से कुछ नहीं खाया हैं और साथ ही वे भी अपने पुत्र के साथ उपवासी हैं। वे मंदिर में जाकर कोई ऐसा उपाय करें, जिससे उनके पागल पुत्र बामा को पहले भोग दिया जाये तदनंतर उन्हें, उनके पुत्र को इछानुसार मंदिर में कुछ भी करने की स्वतंत्रता हो; नहीं तो वे उनके राज्य से चली जायेगी। अगले ही दिन रानी माँ, तारापीठ आयी और नियम बना दिया! प्रथम बामा को भोग दिया जायेगा, इसके पश्चात भोग माँ को निवेदन किया जायेगा; मंदिर के कार्यों में उनका मत ही अंतिम होगा।

बामा के द्वेषीयों द्वारा उनकी ख्याति क्षति करने हेतु षड्यंत्र तथा बामा की समाज सेवा।

रानी माँ द्वारा बामा को मंदिर का पूर्ण भार देने पर, वहां के अन्य पुरोहित उनके द्वेषी हो गए, उन्हें बामा के ख्याति को क्षीण करने का षड्यंत्र रचा। षड्यंत्र के तहत उनके द्वेषीयों ने रात में एक वैश्य को बामा के पास भेजने की योजना बनाई और आस पास के जितने रसूकदार लोग थे उन्हें बताया गया की रात को बामा महा-श्मशान में वेश्या लीला करते हैं, अगर वे देखना चाहते हैं तो रात में महा-श्मशान जाये। षड्यंत्र योजना के अनुसार एक वेश्या को रात में बामा के पास भेजा गया, अन्य लोग छुप पर देखने आये की बामा जैसे महान योगी ऐसा क्या करते हैं? साथ ही वे सभी षड्यंत्रकारी भी रात में महा-श्मशान में आयें। वैश्य ने बामा के पास जाकर! जो की पंच-मुंडी आसन में ध्यान-योग मग्न थे, काम वासना में लिप्त होना चाहा। परन्तु बामा के बार-बार सावधान करने पर भी जब वास वैश्य नहीं मानी, तो उन्होंने सभी को अपना ऐसा भयानक रूप दिखाया जिससे प्रथम तो वह वेश्या वही अचेत हो गयी, षड्यंत्रकारियों को वहाँ के भूत-प्रेतों ने पकड़ लिया और बाकी भाग खड़े हुए। षड्यंत्रकारियों के अचेत होकर गिरने और चीखने चिल्लाने पर बामा के शिष्यों ने आ कर उन्हें भयमुक्त किया, तदनंतर सभी ने बामा से क्षमा याचना की, बामा ने सभी को क्षमा करते हुए माँ के नाम कीर्तन करने की सलाह दी।


बामा एक ऐसे विराचारी या बमाचारी तांत्रिक संत हुए जिन्होंने अपनी तंत्र साधनाओं से अर्जित शक्तिओं का निःस्वार्थ भाव से, समाज के सभी वर्गों की सेवा हेतु प्रयोग किया। अनगिनत धनी-दरिद्र रोगी उनके पास आये जिनमें राजा-रंक सभी थे तथा बामा के कृपा और आशीर्वाद से कठिन से कठिन रोग ग्रस्त रोगी पूर्णतः स्वस्थ हुए। साथ ही, विभिन्न प्रकार की आपत्ति-विपत्ति, समस्याओं, नाना प्रकार की चिंता और भय से मुक्त होने हेतु सभी बामा के पास आने लगे। समाज में व्याप्त नाना प्रकार के कु-रीतिओं और कु-संस्कारो जैसे उच्च-नीच जाती भेद-भाव, विधवा पुनर्विवाह विवाह, बाल विवाह, तंत्र-विद्या से अनैतिक कार्यों का प्रचलन आदि को दूर करने में उन्होंने अपनी अहम भूमिका प्रदान की।
बामा समाज के एक अति विशिष्ट एवं सम्माननीय व्यक्ति थे, भविष्य वक्ता तथा वाक्-सिद्ध पुरुष थे; उनकी भविष्यवाणी कभी मिथ्या सिद्ध नहीं होती थी, त्रि-काल पुरुष थे बामा बाबा। उन्हें अनेक अलौकिक शक्तियां प्राप्त थी, उनके जन्मदात्री माँ के श्राद्ध कर्म में तीव्र वर्षा शुरू हुई, बामा ने उस स्थान पर वर्षा का स्तंभन (रोक) किया, जिससे आयोजन सुचारु रूप से चला। उन्होंने जो आदेश दे दिया! उसकी अवज्ञा करने का साहस किसी में नहीं होता था और अगर किसी ने उलंघन किया तो उसे भारी दुष्परिणाम भोगना पड़ता था। बामा कई बार बहुत चिढ़ जाते थे, खिन्न हो जाते थे, भक्तों का ताता लगा रहता था हर किसी की कोई न कोई समस्या होती थीं, कई बार वे क्रुद्ध होकर गली-गलोच करते थे, क्रोध के मारे पागल हो जाते थे। एक बार वे क्रोध में आकर माँ तारा को अपने त्रिशूल से मारने गए, (उन्हें ऐसा लग रहा था की माँ ने जान बूझ कर उन्हें संसार से हटाया तथा इस कार्य में लगा दिया), इस कृत्य पर माँ तारा ने मंदिर में उन्हें इतने जोर से थप्पड़ मारा की वे मंदिर से बहार जा गिरे थे, उन्हें सभी खेपा बाबा कहने लगे थें।

खेपा बाबा का पर-लोक गमन या सूक्ष्म शरीर धारण करना।

७४ वर्ष की आयु में खेपा बाबा ने देह त्याग किया, देह त्याग से पहले वे बहुत जीर्ण हो गए थे यहाँ तक की उठना-बैठना उनके लिए कठिन हो गया था, नगेन काका उनकी सेवा सुश्रुत करते थे। एक दिन बाबा एकदम कहने लगे 'लगेन डाक आया हैं', नगेन काका ने उत्तर दिया क्या उल्टा-पुल्टा बोल रहे हो, माँ की मंगल आरती में बहुत देर हैं अभी सो जाओ तथा वे भी उनके निकट सो गए। अगले दिन खेपा बाबा ने सुबह द्वारका नदी में स्नान किया, तदनंतर नगेन काका, बाबा को पकड़ कर कुटिया तक ले आयें, बाबा! बहुत समय तक माँ के ब्रह्म शिला रूपी चरण पर सर रखकर पड़े रहे तथा नगेन काका से कहा! मेरी यही पर समाधि देना। उन्होंने दोपहर में बहुत सामान्य ही माँ का भोग ग्रहण किया, संध्या के समय माँ की संध्या आरती हुई, रात्रि का भोग भी बाबा ने थोड़ा सा ही खाकर नगेन काका को दे दिया। तदनंतर, वे पञ्च-मुंडी आसन पर बैठे! जहाँ बैठ कर उन्होंने जीवन भर नाना लीलाएं की थी, अंततः उन्होंने योग क्रिया शुरू की तथा मध्य रात्रि १ बजे के करीब बाबा का ब्रह्म-तालू झट से फट गया, उन्होंने अपनी ज्योति स्वरूपी आत्मा को ब्रह्म-रन्ध से निष्कासित किया; बंगला सन १३१८, २ श्रवण, अंग्रेजी सन १९११, २२ जून, खेप बाबा ने मानव देह त्याग कर सूक्ष्म देह धारण किया या शिवत्व प्राप्त किया।

भाव विभोर भक्ति साधना का प्रचार तथा भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में बामा की भूमिका।

बामा ने भक्ति की एक ऐसी प्रथा शुरू की जो अद्वितीय हैं उन्होंने तंत्रोक्त या शास्त्रोक्त विधि का अनुसरण ना कर, आत्मा की भाव भक्ति का प्रचार किया एवं अपनाया तथा अपने भक्तों तथा शिष्यों को इसी मार्ग के अनुसरण हेतु प्रेरित किया। उनके अनुसार सर्वदा माँ तारा का नाम लेना ही हर प्रकार के समस्या निवारण हेतु पर्याप्त था, साथ ही जन्म तथा मृत्यु रूपी चक्र से मुक्ति प्राप्त करने का भी।
बाल्य-कल से ही बामा की सबसे बड़ी आकांक्षा थी कि माँ तारा उनके हाथ से भोजन करें और एक दिन उनकी यह अभिलाषा भी पूरी हुई। सिद्धि प्राप्ति के पश्चात एक दिन वे मंदिर में माँ की पूजा करने गए, उन्होंने बिना मंत्र के फूल-बेलपत्र माँ को अर्पण करना शुरू किया, जिस पर वहाँ के पुरोहितों ने कहा! माँ बिना मंत्र के जल पुष्प नवैध्य इत्यादि स्वीकार नहीं करती हैं, उन्हें शास्त्रोक्त विधि से द्रव्य, पूजा सामग्री निवेदन करना चाहिए। बामा ने उन सभी से कहा! देखो इस पुष्प पात्र में जितने पुष्प हैं, मैं माँ के विग्रह के सामने उछालूंगा और यह सारे पुष्प, बेल-पत्र माला बनकर माँ के गले में स्वतः ही पड़ जायेगी। बामा द्वारा पुष्प पत्र माँ तारा के विग्रह के सामने उछालते ही, बेल-पत्र, पुष्प माला बनकर माँ के गले में अपने आप चली गई। यह ही नहीं उस दिन बामा के हाथों से माँ तारा ने फल भी खाया। वे सर्वदा ही आत्म शुद्धि एवं निर्मलता, पवित्र ज्ञान, भक्ति को शास्त्रोक्त पूजा साधना पद्धति से श्रेष्ठ मानते थे तथा उन्होंने इस अलौकिक घटना से इस तथ्य को सिद्ध भी किया।


बामा खेपा क्रान्तिकारी स्वतंत्रता सेनानी भी थे, प्रत्यक्ष रूप में तो उन्होंने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में भाग नहीं लिया। परन्तु उनके शिष्य तारा खेपा जो स्वयं एक सिद्ध हठ योगी थे, उन्हें आर्थिक तथा अलौकिक शक्तियां प्रदान की। बामा के भक्तों द्वारा दी जाने वाली दान स्वरूप सामग्री, धन, आभूषण, रत्न इत्यादि, वे तारा खेपा को अस्त्र-शस्त्र संग्रह करने हेतु दे देते थे। तारा खेपा बहुत ही क्रुद्ध स्वभाव युक्त तथा योग सिद्ध पुरुष थे तथा उन्होंने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में अपनी आध्यात्मिक, अलौकिक शक्तियों के साथ योगदान दिया। खेपा बाबा के खेपा शिष्य 'तारा खेपा'

तारापीठ से सम्बंधित चित्र

पाद पद्म
तारापीठ महा-श्मशान में स्थापित, शिला रूप माँ तारा के चरण चिन्ह या पाद पद्म, जो बामा खेपा के समाधि मंदिर के दाहिने ओर हैं। देवी माँ तारा, वशिष्ठ मुनि के ध्यान भांग हेतु, नूपुर पहन अदृश्य हो नित्य करती थी। बामा खेपा ने भी, इसी स्थान को अपना आश्रय बनाया।
पाद पद्म
बामा खेपा बाबा का समाधि मंदिर